Friday, December 1, 2023
Google search engine
होमराज्यउत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंडशाहीनबाग जैसा होगा Kisan Andolan का हश्र, आंदोलन में SP, BSP, कांग्रेस...

शाहीनबाग जैसा होगा Kisan Andolan का हश्र, आंदोलन में SP, BSP, कांग्रेस के लोग शामिल- मौर्य

स्टोरी हाईलाइट्स
किसान महापंचायत में किसानों का हुजुम
किसानों की भीड़ देख प्रशासन के फूले हाथ पैर
‘Kisan Andolan में SP-BSP कांग्रेस के लोग’

कृषि कानून के विरोध में पिछले 10 महीने से किसानों का प्रदर्शन (Kisan Andolan) जारी है।  रविवार को कृषि कानून के विरोध में यूपी के मुजफ्फरनगर में किसान संगठनों द्वारा किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) का आयोजन किया गया।  जिसमें लाखों की तादाद में किसान पहुंचे थे।  किसान महापंचायत को लेकर यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बड़ा बयान दिया है।  कानपुर में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए केशव प्रसाद ने कहा कि यह किसान आंदोलन वास्तव में किसानों का नहीं सपा बसपा और कांग्रेस का आंदोलन है।  इसके साथ ही केशव मौर्य ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि‘किसान आंदोलन का हश्र भी शाहीनबाग के आंदोलन सा होगा’।

Kisan Andolan में SP-BSP के लोग’

किसान आंदोलन को लेकर केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। कानपुर में प्रबुद्ध सम्मेलन कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद मौर्य ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘किसान आंदोलन में एसपी, BSP और कांग्रेस के लोग हैं।  जैसे शाहीनबाग टांय-टांय फिस्स हुआ, वैसा ही हाल किसान आंदोलन का भी होगा।  आगे चुनाव होने को हैं, साफ हो जाएगा कि जनता किसके साथ खड़ी है।  हमने इन्हें 2019 में भी पराजित किया है और इस बार भी यही होगा।’  इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ नेता तालिबान पर भाषण देते हैं, भारत में रहकर तालिबानी भाषा बर्दाश्त नहीं की जा सकती है।

मुजफ्फरनगर में किसानों का उमड़ा हुजुम

रविवार को मुजफ्फरनगर (Muzaffarpur) की धरती पर किसानों का हुजुम उमड़ा।  किसान महापंचायत में देश के कोने-कोने से लाखों की संख्या में किसान पहुंचे थे।  किसानों की इतनी भीड़ देखकर प्रशासन के हाथ पैर फूल गए।   ग्राउंड के बड़े हिस्से में लोगों के बैठने के लिए दो लाख वर्ग फुट का पंडाल तैयार किया गया था और पंडाल के ठीक सामने संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के बैठने के लिए करीब साढ़े तीन हज़ार वर्ग फुट का विशाल मंच बनाया गया था।

शहीद हो जाएंगे लेकिन मोर्चा डटा रहेगा- टिकैत

मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत में देश के अलग अलग हिस्सों से करीब 300 से ज्यादा किसान संगठनों ने हिस्सा लिया।  महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया है।  वहीं किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि ‘हम शहीद हो जाएंगे लेकिन मोर्चा डटा रहेगा हमारा आंदोलन खत्म नहीं होगा।  किसानों को गन्ने का भाव 450 रुपये कुंतल चाहिए।  कृषि बिलों की वापसी तक किसान गाजीपुर बॉर्डर से घर नहीं जाएंगे’।

ये भी पढ़ें- चुनाव के बाद केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा CM का चेहरा: Keshav Prasad Maurya

बता दें कि इन सभी लोगों को मौजूदा केंद्र सरकार से तमाम शिकायतें थीं, लेकिन निशाने पर मुख्य रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा अंबानी और अडानी थे।  हालांकि, कुछ राजनीतिक जानकार बताते हैं कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में किसान आंदोलन का खामियाजा भाजपा को भुगतना पड़ सकता है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Google search engine

ताजा खबर

Recent Comments