Friday, December 1, 2023
Google search engine
होमसमाचारAfghanistan News: मुल्ला बरादर के हाथ तालिबान की कमान, चीन की फंडिंग...

Afghanistan News: मुल्ला बरादर के हाथ तालिबान की कमान, चीन की फंडिंग से चलाएगा देश

स्टोरी हाईलाइट्स
बरादर बनेगा तालिबान सरकार का मुखिया
चीन की फंडिंग से चलाएगा देश
राज्याभिषेक के लिए कई नेता काबुल पहुंचे

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद आज तालिबान सरकार बनाने का ऐलान करने जा रहा है।  अमेरिका के अफगानिस्तान छोड़ते ही तालिबान अपनी सरकार बनाने के गठन में लग गया था।  इस सरकार की लीडरशिप तालिबान के सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी (Abdul Ghani Barada) बरादर के हाथों में होगी।  20 साल के वनवास के बाद अफगानिस्तान की सत्ता पर फिर से तालिबान का राज्याभिषेक होने जा रहा है।  काबुल में राष्ट्रपति भवन में तैयारी जोर शोर से चल रही हैं।  कंगाल पड़े अफगानिस्तान (Afghanistan News) में तालिबान चीन की मदद से देश चलाएगा।

(Afghanistan News) आखिर कौन है मुल्ला बरादर ?

मुल्ला अब्दुल गनी बरादर का जन्म 1968 में अफगानिस्तान (Afghanistan News) में हुआ था। मुल्ला बरादर को तालिबान का संस्थापक माना जाता है।  मुल्ला बरादर तालिबान में दूसरे नबंर का नेता है।  बताया जा रहा है कि तालिबान सरकार (Taliban) में उसके साथ मुल्ला मोहम्मद याकूब और शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई भी सीनियर पदों पर होंगे।  मुल्ला मोहम्मद याकूब तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर का बेटा है।  वहीं, शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई का भारत से कनेक्शन है।  वो यहां आईएमए देहरादून में डेढ़ साल ट्रेनिंग ले चुका है।  समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, ‘सभी शीर्ष नेता काबुल पहुंच गए हैं, जहां नई सरकार की घोषणा करने की तैयारी अंतिम चरण में है।’

चीन की फंडिंग से चलाएगा देश

अफगानिस्तान पर तालिबानियों ने कब्जा तो कर लिया लेकिन सरकार चलेगी कैसे ?  अफगानिस्तान का सरकारी खजाना खाली है।  उसके पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए तक पैसे नहीं है।  ऐसे समय में चीन तालिबान की लगातार मदद कर रहा है।  मालूम हो कि तालिबान ये बात खुद कह चुका है कि वह सरकार चलाने के लिए चीन (China) पर निर्भर है।

ये भी पढ़ें- Paralympics में Noida के प्रवीण ने रचा इतिहास, हाई जंप में जीता सिल्वर, DM भी कर रहे कमाल

तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि चीन अफगानिस्तान की सुरक्षा और विकास के लिए हर संभव मदद करेगा।  इससे यह साफ हो जाता है कि चीन की फंडिंग पर तालिबान सरकार चलाएगा।  लेकिन चीन भी कम चालाक नहीं है, उसकी नजर अफगानिस्तान की खनिज संपदा पर है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Google search engine

ताजा खबर

Recent Comments